भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

लका मे हनुमान अलबेले राम / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

लंका में हनुमान, अलबेले राम
काहे को सोटा काहे को लंगोटा
काहे चढ़ा दूं चोला।
सोने को सोटा, लाख को गोटा
सेंदुर चढ़ाय दऊं चोला।
बन-बन भटके फिरत अकेले
डाले फूलन को सेला। लंका में...।
काहे को मुकुट, काहे को मुस्टक
काहे को बनहै झेला।
सोने को मुकुट, चंदन की मुस्टक
फूलों का डाले झेला। लंका में...।