भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लखण / राजू सारसर ‘राज’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुण सुणैं
थानैं
कुण बंटावै
खीज
मति भूल
ज्यूं
मूळ साथै
ब्याज
बियांई
बिसवास साथै
घात।
सुण, म्हारी बात
क्यूं कळपै
बिरथा ई
ईं दुनियांवी
बिणज रो
ओ कायदौ है बावळा।