भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लखी जिन लाल की मुसक्यान / भगवत् रसिक

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लखी जिन लाल की मुसक्यान।
तिनहिं बिसरी बेद-बिधि जप जोग संयम ध्यान॥

नेम ब्रत आचार पूजा पाठ गीता ग्यान।
'रसिक भगवत' दृग दई असि, एचिकैं मुख म्यान॥