भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

लटपटी पाग सिर साजत उनींदे अंग / शृंगार-लतिका / द्विज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मनहरन घनाक्षरी
(ऋतुराज के दर्शनार्थ उत्सुकतापूर्वक गमन)

लटपटी पाग सिर साजत उनींदे अंग, ’द्विजदेव’ ज्यौं-त्यौं कै सँभारत सबै बदन ।
खुलि-खुलि जाते पट बायु के झकोर भुजा, डुलि-डुलि जातीं अति आतुरी सौं छन-छन ॥
ह्वैं कैं असवार मनोरथ ही के रथ पर, ’द्विजदेव’ होत अति आनँद-मगन मन ।
सूने भए तन, कछु सूनेई सु मन, लखि सूनी सी दिसान, लख्यौ सूनेई दृगन बन ॥९॥