भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लड़कियाँ / स‍ंजीव सूरी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


लड़कियाँ
बड़ा अच्छा लगता है
जब लदअकियाँ स्वप्न देखती हैं
उनके ख़्वाब होते हैं उन्हीं की तरह
रेशमी, मुलायम और महीन.

स्वप्न देखती लड़कियों के पुरख़ुलूस चेहरों
पर हो जाती है मुनक्कश सतरंगी गुलकारी.
उड़ते हैं बादलों के फाहे
होती है नदियों की कल-कल
झरनों की झर-झर
कलियों की चटकन
झड़ते हैं हरसिंगार के फूल
झांझर झनकती है
कंगन खनकते हैं उनके सपनों में.
अपनी आँखों में ख़ूबसूरत ख़्वाब बुनती
लड़कियाँ सचमुच ख़ूबसूरत लगती हैं
लगती हैं एक गदराती कविता की तरह.