भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लड़ाई हक के बा अपना, जतावल भी जरूरी बा / जौहर शफियाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लड़ाई हक के बा अपना, जतावल भी जरूरी बा
बतावल भी जरूरी बा, बुझावल भी जरूरी बा।

कबो ई साँप बहिरा ना सुनी कवनो मधुर भाषा
कड़क छिंउकी आ पैना से जगावल भी जरूरी बा।

खड़ा तुफान में होके बचावे के पड़ी टोपी
घड़ी भर माथ के अपना झुकावल भी जरूरी बा।

सही अक्षर के खातिर मश्क करहीं के पड़ी बाबू
बनावल भी जरूरी बा, मिटावल भी जरूरी बा।

बतावल बा इहे दर्शन से दर्शन जिन्दगानी के
उगावे खातिर अपना के, डूबावल भी जरूरी बा।

कबो जौहर ना देखस कोरा सपना दिन में कवनो
एही से आज उनका के घटावल भी जरूरी बा।