भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लाँगुरिया / ब्रजभाषा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

रे लँगुरिया कमरा में भारी डाकौ पर गयौ॥ टेक
कोई पर गयौ आधी रात॥ लँगुरिया
मेरे ससुर गये देवी परसन कू,
चाहे सास भलेई लुटि जाय॥ लँगुरिया
मेरे जेठ गये देवी जात कूँ,
चाहे जिठानी भलेई लुटि जाय॥ लँगुरिया
मेरे देवर गये देवी जात कूँ,
चाहे दौरानी भलेई लुटि जाय॥ लँगुरिया
.
.
.
(ऐसे ही नाम लेते जाते हैं।)