भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लाओ दो माचिस / पारस अरोड़ा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 लो यह माचिस और सुनो
    कि तुम इसका कुछ नहीं करोगे
सिवाय इसके
कि अपनी बीड़ी सुलगा लो
तीली फूंक देकर वापस बुझा दो
और डिबिया मुझे वापस कर दोगे।

लो यह माचिस
पर याद रखना
कि इससे तुम्हें
   चूल्हा सुलगाना है
रोटियां बनानी हैं
कारज सार डिबिया मुझे वापस कर देनी है।

यह लो, इससे तुम स्टोव सुलगाकर
दो चाय बना सकते हो
घर-जरूरत की खातिर
दो-चार तीलियां रख भी सकते हो
पर डिबिया वापस देनी है मुझे, यह याद रखना है।

अंधेरा हो गया है, दिया-बत्ती कर लो
दो-चार तीलियां ही बची हों
तो डिबिया तुम्हीं रख लेना
अब तो तुम भी जानते हो -
     तुम्हें इसका क्या करना है
मुझे जाना है
और नई माचिस का सरंजाम करना है।

हां, लाओ, दो माचिस !
मैं विश्‍वास दिलाता हूं
   कि मैं इसका कुछ नहीं करूंगा और।
बीड़ी सुलगाकर दो कस खींचूंगा
एक आप ही खींच लेना
फिर सोचेंगे
हमें इसका क्या करना है
आपकी डिबिया आपको वापस दूंगा।

लाओ, दो माचिस
पहले चूल्हा सुलगा लूं
दो टिक्कड़ बनाकर सेक लूं
एक आप खा लेना
एक मैं खा लूंगा
फिर अपन ठीक तरह से सोचेंगे
कि अब हमें
क्या कैसे करना है।

मैं करूंगा और आप देखोगे
तीली का उपयोग अकारथ नहीं होगा
दो कप चाय बनाकर पी लें
फिर सोचें
कि क्या होना चाहिए
समस्याओं का समाधान
माचिस से इस समय तो इतना ही काम।

ठीक है कि जेब में इस वक्त
पैसे नहीं हैं
माचिस मेरे पास भी मिल जाती
बात अभी की है
और बात दीया-बत्ती की है
उजाला होने पर सब-कुछ दीखेगा साफ-साफ।

आपकी इस माचिस में तो
चार तीलियां हैं
मुझे तो फकत एक की जरूरत है
तीन तीलियों सहित
आपकी माचिस आपको वापस कर दूंगा।

लाओ, दो माचिस
मैं विश्‍वास दिलाता हूं
    कि मैं इसका कुछ नहीं करूंगा और।

अनुवाद - नंद भारद्वाज