भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लाज बिलोकन देत नहीँ रतिराज / तोष

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लाज बिलोकन देत नहीँ रतिराज बिलोकन ही की दई मति ।

लाज कहै मिलिये न कहूँ रतिराज कहै हित सोँ मिलिये यति ।

लाजहु की रतिराजहु की कहै तोष कछू कहि जात नहीँ गति ।

लाल निहारिये सौँह कहौँ वह बाल भई है दुराज की रैयति ।


तोष का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल महरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।