भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लाल तुम भाजत हो क्यों आज / कमलानंद सिंह 'साहित्य सरोज'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लाल तुम भाजत हो क्यों आज ॥
खेलि लेहु फगुआ अब मोसे तजि सब डर ओ लाज ।
बूझि परै गो तबही तुम को कैसो नारि समाज ॥
ब्रज युवती वृषभानु सुता की सखी साजि सब साज ।
पकड़ि रंग में यों बोरोंगी उड़िहैं होस मिजाज ॥
आई हों लै कुमकुम रोरी भरि झोरी एहि काज ।
बदलो सब दिन को ‘सरोज’ अब लैहों हो ब्रजराज