भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  रंगोली
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

लूटन चलो श्याम की अमरैया / बुन्देली

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

लूटन चलो श्याम की अमरैयां।
कहना कन्हैया प्यारे जन्म लियो हैं
हां कहना बाजे बधैयां लूटन...
मथुरा कन्हैया प्यारे जन्म लिवो हैं
गोकुल बाजे बधैयां। लूटन...
कहां तो बाजे ढोलक मंजीरा
कहां बाजे शहनैयां। लूटन...
मथुरा बाजे ढोलक मंजीरा
गोकुल बाजे शहनैयां। लूटन...