भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लेहु जु लाई हौँ गेह तिहारे परे जेहि नेह सँदेस खरे मैँ / दास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

लेहु जु लाई हौँ गेह तिहारे परे जेहि नेह सँदेस खरे मैँ ।
भेटौ भुजा भरि मेटौ बिथान समेटौजू तौ सब साध भरे मैँ ।
सँभु ज्योँ आधे ही अँग लगाओ बसाओ कि श्रीपति ज्योँ हियरे मैँ ।
दास भरौ रसकेलि सकेलि सुआनँद बेलि सी मेलि गरे मैँ ।

दास का यह दुर्लभ छन्द श्री राजुल मेहरोत्रा के संग्रह से उपलब्ध हुआ है।