भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

ले हाथों में अपने जो हल लिख रहा है / मधुभूषण शर्मा 'मधुर'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


                        ले हाथों में अपने जो हल लिख रहा है ,
                        पढ़ो वो भी कोई ग़ज़ल लिख रहा है !

                        ये गेहूं के दाने तसव्वुर हैं उस का ,
                        हक़ीक़त की लेकिन फ़सल लिख रहा है !

                        ये कीचड़ से लथपथ बदन क्यूं न चमके ,
                        ये धरती पे कितने कँवल लिख रहा है !

                        वही एक काफ़िर पढ़े जो न उस को ,
                        ख़ुदा का जो हर पल फ़ज़ल लिख रहा है !

                        है लिखने का कोई मज़ा तो यही है ,
                        अगर युग पढ़ें वो जो पल लिख रहा है !

                        दरख़्तों के साए पे है हक़ तो उसका ,
                        कि जो धूप में आज , कल लिख रहा है !

                        है शायर ज़मीं पे तो वो कामगर है ,
              ` `मधुर' नक्ल है वो असल लिख रहा है !