भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

लोग शीशे के महल में / पंख बिखरे रेत पर / कुमार रवींद्र

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बड़े भोले
लोग शीशे के महल में
छिप रहे हैं पत्थरों से

बात वैसे है पुरानी
वही पिछली आदतें हैं
गुंबजों में कैद हैं दिन
और जंगल के पते हैं

टूटती हैं टहनियाँ
आवाज़ आती है घरों से

मुँह-छिपाये धूप लौटी
काँच की बारादरी से
हाल सडकें पूछतीं हैं
भोर की घायल परी से

और
टूटे शंख की धुन आ रही है
मन्दिरों से