भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

लोहे का घर: एक / शरद कोकास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
सुरंग से गुजरती हुई रेल
बरसों पीछे ले जाती है
उम्र के साथ
 
बीते सालों के
फड़फड़ाते पन्नों को
खिड़की से आया
पहचानी हवा का झोंका
किसी एक खास पन्ने पर
रोक देता है
 
एक सूखा हुआ गुलाब का फूल
दुपट्टे से आती भीनी भीनी महक
रात भर जागकर बतियाने का सुख
उंगलियों से इच्छाओं का स्पर्श
 
स्वप्न देखने के लिये
टिकट लेना
कतई ज़रूरी नहीं है।