भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

लोहे का घर: पांच / शरद कोकास

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

 
जब वह काले कोट वाला
कैफ़ियत मांगेगा तुमसे
बग़ैर टिकट यात्रा की
तुम चुपचाप
हवाले कर दोगे उसके
जेब में पड़ी
बची हुई बोतल
तुम पर तो वैसे ही
थकान हावी है।