भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

वन्यांती तो आया देवी देवता रे नाना / मालवी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

   ♦   रचनाकार: अज्ञात

वन्यांती तो आया देवी देवता रे नाना
वन्यां ती तो आया गणेश
उजण्या से आया देवी-देवता रे
चन्तामण से आया गणेश
वन्यां उतारां देवी-देवता रे नाना
वन्यां उतारां गणेश
मंदरे उतारां देवी-देवता रे नाना
बाजूरया उतारां गणेश
कई निमाड़ा देवी-देवता रे नाना
कोई निमाड़ा गणेश
पनफल निमाड़ा देवी-देवता रे नाना
लाडू निमाड़ा गणेश
कोई जो देगा देवी-देवता रे नाना
कोई जो देगा गणेश
अन्न धन देगा देवी-देवता रे नाना
रिदय-सिद्ध देगा गणेस