भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वसंत / एस. मनोज

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कुहू कुहू कय रहल कोयलिया
सजल धजल घरती केर रूप
बाध बोन सभ गमैक रहल अछि
गुनगुन गुनगुन लागै धूप

दिग दिगन्त घरि फूल खिलल अछि
प्रकृतिक सुषमा अपरंपार
ऋतु वसंत मे प्रकृति रानी
कय लैत अछि सोलहो शृंगार

मंद मंद चलि रहल पवन सँ
डोलि रहल अछि गाछक पात
अलसायल अलमस्त जीव आ
चहुँ दिस निखरै नवल प्रभात

धरा धाम सुरभित भ जाय आ
सभहक भेंटै पुनि पुनि प्राण
जीव जगत मुस्काबै सदिखन
प्रीत सुमेलित सकल जहाँन