भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वह मित्र / भारत यायावर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वह रोते हुए लोगों को हँसा देता है
वह मासूम सा हरपल ही दिखा करता है

कोई नश्तर की तरह जख़्म से भर देता है
वह मरहम सा हर घाव सुखा देता है

कोई अकड़ता है और उबलता है
वह पर्वत को भी चुपचाप झुका देता है

कोई दरिया की तरह तेज़ बहा करता है
वह जूझते नाविक को दुआ देता है

वह दिल से लगाता है मेरी यादों को
कोई मिलता है बहुत बार,भुला देता है

कोई सुलाने की कोशिश में लगा रहता है
वह हर बार मिलते ही जगा देता है