भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वायुयान / मुंशी रहमान खान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

यान बनाए बहुत नर वायुयान परधान।
अमित भार लेकर उडै़ चलै मारग असमान।।
चलै मारग असमान जहाँ नहिं खग प्रभुताई।
दूर देश की राह छिनक महं तय कर जाई।।
जौन चलावैं यान नभ ईश दीन्‍ह बुधि ज्ञान।
धन्‍यवाद रहमान दे जिन निर्मायो यान।।