भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वायु / मुंशी रहमान खान

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वायु न होती धरनि पर नहीं जियत जिव धारि।
बिनु प्रसंग घन वायु के नहिं बरसत जग वारि।।
नहिं बरसत जग वारि वायु दुर्गंध नशावै।
कठिन तेज रवि की किरन छिन महं तपन बुझावै।।
कहैं रहमान वायु सुखदाता जीवन जियें भर आयु।
कोई वस्‍तु नहिं होत जग जो नहिं होती वायु।।