भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

वार्ता:कविता कोश मुखपृष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

jab nav jal main chhod di, toofan main hi mod di, de di chunauti sindhu ko phir dhar kya majhdhar kya..

plz tell me the name of the kavi n full kavita..

Abhinav e-mail roughsoul@gmail.com

एक आस लगाये बैठा हूँ |

दुःख से मिला घाब है पर मरहम लगाने बैठा हूँ अँधियारा आया तो काया हुआ एक रौशनी के इंतजार में बैठा हूँ अपनों ने ठगा तो क्या हुआ फिर भी हमराही बनकर बैठा हूँ एक गलती हुई तो क्या हुआ उसे सुधारने बैठा हूँ एक आस लगाये बैठा हूँ |

Jindagi

Safar me hum the, Magar koi humrahai na tha. jindagi jee rahe the, Magar koi jeene ka maqsad na tha.

M Khan(mofeeque@gmail.com)