भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विद्या और विद्वान / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विद्या बिन अविद्या रूप, गोरा तन शोभा क्या,
                 विद्या से विहीन लोग दुःख ही दुःख सहते हैं |
दिन में ना सूझ परे जन-जन से जूझ परे,
                      रात के ही राजा ज्यूँ राजा बन रहते हैं |
अरमासे गरमासे और वे निसरमा से,
                       कछु-कछु शरमा से मारे मन रहते हैं |
कहता शिवदीन राम सोचो और समझो तो,
                     लोगन को लोग कई मूरख क्यूँ कहते हैं |
=====================================================

विद्या से अर्थ मिले मान सनमान मिले,
               विद्या से धर्म कर्म काम मोक्ष धाम भी |
विद्या है अपर बल अक्ल अनुमान करो,
              ज्ञान करो ध्यान करो मिलता आराम भी |
विद्या से मनोहर तन मन भी प्रसन्न रहे,
             मस्ती रहे आठों याम सुबह और शाम भी |
कहता शिवदीन राम सुधर जाय सकल काम,
            विद्या से सालों साल उज्वल शुभ नाम भी |
===============================================

विद्वानन की गतियाँ मतियाँ,
               बतियां सुण चातुर लोग ही जाने |
धन्य गुणी गुण को लखि है,
                अरु मूरख तो अपनी जिद ठाने |
गुमान घमंड भरे तन में,
               मन में अभिमान से होय दिवाने |
शिवदीन वो जायें जहाँ भी कहीं,
                   पर मूरख मूढ़ रहें नहीं छाने |
=================================================

विकसित होता है विद्या से, हृदय कमल का फूल,
विद्या धन बिन धन सकल समझो माटी धूल |
समझो माटी धूल, धूल से फूल बनाना,
धूल फूल बनि जाय वाही तो विद्या पाना |
विद्वानन की गति मति, समझत हैं विद्वान,
शिवदीन सुशोभित विद्वता करके देखो ज्ञान |
                           राम गुण गायारे ||