भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विनयावली / तुलसीदास / पद 101 से 110 तक / पृष्ठ 2

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पद 103 से 104 तक

 
(103)

यह बिनती रघुबीर गुसाईं।
और आस-विस्वास-भरोसो, हरो जीव-जड़ताई।1।

चहौं न सुगति, सुमति, संपति कछु, रिधि-सिधि बिपुल बड़ाई।
हेतु-रहित अनुराग राम-पद बढै़ अनुदिन अधिकाई।2।

कुटिल करम लै जाहिं मोहि, जहँ जहँ अपनी बरिआई।
तहँ तहँ जनि छिन छोह छाँड़ियो, कमठ-अंडकी नाईं।3।

या जगमें जहँ लगि या तनुकी प्रीति प्रतीति सगाई।
तें सब तुलसिदास प्रभु ही सों होहिं सिमिटि इक ठाईं।4।

(104)
 
जानकी-जीवनकी बलि जैहौं।
चित कहै रामसीय-पद परिहरि अब न कहूँ चलि जैहौं।1।

उपजी उर प्रतीति सपनेहुँ सुख, प्रभु-पद-बिमुख न पैहौं।
मन समेत या तनके बासिन्ह, इहै सिखावन दैहौं।2।

श्रवननि और कथा नहिं सुनिहौं, रसना और न गैहौं।
रोकिहौं नसन बिलोकत औरहिं, सीस ईस ही नैहौं।3।

नातो-नेह नाथसों करि सब नातों-नेह बहैहौं।
यह ठर -भार ताहि तुलसी जग जाकेा दास कहैहौं।4।