भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विराम-चिह्न / संजीब कुमार बैश्य / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अपनी
दासता की ज़ंजीरों को
तोड़कर

विराम-चिह्न
ख़ाली छोड़ देते हैं
तयशुदा जगहों को।

वे छोड़ देते हैं
निरंकुश शब्दों को
खोज करने के लिए
नए मुहावरों की।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय

लीजिए, अब अँग्रेज़ी में मूल कविता पढ़िए
Punctuation Marks

Breaking the chains of slavery
The punctuation marks desert
Their designated spaces
And leave the tyrant words
To discover a new idiom.

–Sanjib Kumar Baishya