भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

और भी दूँ / रामावतार त्यागी

3 bytes added, 03:37, 17 अप्रैल 2013
|संग्रह=
}}
{{KKCatKavita}}
<poem>
मन समर्पित, तन समर्पित,
 
और यह जीवन समर्पित।
 
चाहता हूँ देश की धरती, तुझे कुछ और भी दूँ।
  मॉं माँ तुम्‍हारा ऋण बहुत है, मैं अकिंचन, 
किंतु इतना कर रहा, फिर भी निवेदन-
 
थाल में लाऊँ सजाकर भाल में जब भी,
 
कर दया स्‍वीकार लेना यह समर्पण।
गान अर्पित, प्राण अर्पित,
 
रक्‍त का कण-कण समर्पित।
 
चाहता हूँ देश की धरती, तुझे कुछ और भी दूँ।
 मॉंज माँज दो तलवार को, लाओ न देरी, बॉंध बाँध दो कसकर, कमर पर ढाल मेरी, 
भाल पर मल दो, चरण की धूल थोड़ी,
 
शीश पर आशीष की छाया धनेरी।
 
स्‍वप्‍न अर्पित, प्रश्‍न अर्पित,
 
आयु का क्षण-क्षण समर्पित।
 
चाहता हूँ देश की धरती, तुझे कुछ और भी दूँ।
 
तोड़ता हूँ मोह का बंधन, क्षमा दो,
 गॉंव गाँव मेरी, द्वार-घर मेरी, ऑंगन, क्षमा दो, 
आज सीधे हाथ में तलवार दे-दो,
 
और बाऍं हाथ में ध्‍वज को थमा दो।
 
सुमन अर्पित, चमन अर्पित,
 
नीड़ का तृण-तृण समर्पित।
 चहता चाहता हूँ देश की धरती, तुझे कुछ और भी दूँ।
Delete, Mover, Protect, Reupload, Uploader, प्रबंधक
34,934
edits