भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
'{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=धीरेन्द्र |संग्रह=करूणा भरल ई गीत...' के साथ नया पृष्ठ बनाया
{{KKGlobal}}
{{KKRachna
|रचनाकार=धीरेन्द्र
|संग्रह=करूणा भरल ई गीत हम्मर / धीरेन्द्र
}}
{{KKCatGeet}}
{{KKCatMaithiliRachna}}
<poem>
लिखलहुँ गीत आइ धरि जतबा,
तोरहिटा उद्वेग में !
हेरा गेल हे हम्मर धरती !
तोरहिटा आवेग मे !!
दिग्-दिगन्तमे देखि रहल छी
तोरेटा अनुहार हम !
दुलखैत जनु धूमि रहल छी
हियकेर बतहा भार हम !
लोक कहै अछि एना करै छह
व्यर्थ अनेरे सोच की !
निर्मम जाहि देश केर मालिक
ताहि भूमिकेर रोच की ?
मुदा मनावी कोना मोनकें
जे डूबल आवेग में ??
लिखलहुँ गीत आइ धरि जतबा तोरहिटा उद्वेगमे।
</poem>
Delete, Mover, Reupload, Uploader
2,887
edits