भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
{{KKCatDoha}}
<poem>
103176
जीवन तपता थार था, दूर- दूर सुनसान ।
तुमसे मिल क्या चाहिए ,ईश्वर से वरदान।
104177
बहुत दूर जाकर बसे, मन के इतने पास।
तेरा मन जब हो दुखी,मैं भी बहुत उदास।।
105178
तेरे मन जब- जब जगी,राई भर भी पीर।
पर्वत मेरे मन बनी,करती रोज़ अधीर।।
106179
मन में या परदेस में,रहो कहीं तुम दूर।
मुझको केवल चाहिए, प्यार सदा भरपूर।।
107180
जितने सारे नाम हैं , वे सारे बेकार।
रिश्ता केवल एक है, मन का मन से प्यार।
108181
तेरे पग जिस मग चलें, बिछें वहाँ पर फूल।
आगे आगे मैं चलूँ, चुनता सारे शूल।।
109182
साँस- साँस करती सदा,बस इतनी मनुहार।
खुशियाँ ही बैठी रहें, हर पल तेरे द्वार।।
110183
यश -वैभव का क्या करूँ, यह सब गहरे कूप।
मेरे प्रिय को दीजिए,सारे सुख की धूप।।
111184
यही कामना एक है,मुस्कानें हों द्वार।
ताप कभी आएँ नहीं,बरसे केवल प्यार।।
112185
जीवन में हमको मिले, कुछ ऐसे किरदार।
मानों ईश्वर ने लिया,प्रेम -पगा अवतार।।
113186
आँखों में निर्मल भरा, निर्झर जैसा प्यार।
सारा सुख पहना गए,उन बाहों के हार
114187
'''पात टूटकर डाल से,कभी न आए हाथ।'''
पर वे मिलकर ही रहे , जिनका सच्चा साथ।।
11518
मानव का जीवन मिला, किए दानवी काम।
जागे थे   नफ़रत लिये,हाथ कलह का थाम।।
</poem>