भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
बद्दुआएँ जो बाँटें
दग्ध ही होंगे।
112पलकें चूमेंवातायन से झाँकेभोर किरन।113पुण्य सलिलाहोगी जाह्नवी मानातुम भी तो हो !114निर्मलमना!रूप का हो सागरभाव- ऋचा हो।115भाव-सृष्टि होसुधा -वृष्टि करतीमन में बसो !116प्राणों की लयजीवन संगीत होमनमीत हो।117चन्दनमनमलयानिल साँसेंअंक लिपटें।118नत पलकेंरूप पिए चाँदनीचूम अलकें।
<poem>