भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
|संग्रह=
}}
{{KKCatKavita‎KKCatNavgeet}}
<poem>
:तनिक देर और आसपास रहें
:::चुप रहें, उदास रहें,
जाने फिर कैसी हो जाए यह शाम।
:दूर-दूर सड़क के किनारे पर
सूखे पत्तोख मे पत्तो के धुंधुआते से ढेर,
:एक तरफ़ बैठे हैं दो टीले
:गुमसुम-से पीठ फेर-फेर,
:डूब रहा सभी कुछ अन्धेरे में
:::चुप्पी के घेरे में
पेड़ों पर चिड़ियों ने डाला कुहराम।
</poem>
Delete, Mover, Protect, Reupload, Uploader
49,667
edits