भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गाँव / अजय पाठक

16 bytes added, 05:57, 1 नवम्बर 2009
|रचनाकार=अजय पाठक
}}
{{KKCatKavita}}
<poem>
पगडंडी पर छाँवों जैसा कुछ भी नही दिखा,
Delete, KKSahayogi, Mover, Protect, Reupload, Uploader
18,779
edits