भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

Changes

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आलू पर्व / मनोज श्रीवास्तव

2 bytes added, 11:15, 3 सितम्बर 2010
पचा-खचा कर भी
बना ही रहा निरंकुश शैतान,
उसने हिंसक धर्म और आत्मघाती सम्प्रदाय बनाए,
हृदयविभाजक-भूविच्छेदक सरहद बनाए,
दर्पित-दम्भित राष्ट्रों में
आह! हमने
सेक्सी फूलों, हिंसक जानवरों
आलसी चांद- सितारों को बनाए--
अपने प्रतीक-चिह्न हजारों,
असंख्य शोषितों-अशिष्टों
कोई आलू-दिवस,
सो, आज के दिन
आओ, ! हम सब
मनाएँ हिल-मिल,
तुम्हारे लिए एक दिन