भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विश्वास / अनिमेष कुमार

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

विश्वासे
रिश्ता रोॅ गहराई छेकै
जिनगी रोॅ सच्चाई छेकै,
हेकरै सेॅ सबरोॅ दुहाई होय छै।

विश्वासे
आदमी केॅ आदमी बनाय छै
विश्वास सबकेॅ तपाय छै
हेकरा मेॅ बड़ी नेमत छै
जिगनी रोॅ सब टा सार छै।

जीवन रोॅ आधार छै,
छल-प्रपंच सेॅ दूर छै
हेकरा मेॅ हौ ताकत छै
हेकरै सेॅ जिनगी अनमोल छै।

विश्वासे
सब रिश्ता रोॅ जड़ छेकै
हेकरै सेॅ सब रिश्ता बंधलोॅ छै
सबरोॅ हेकरै सेॅ भला होय छै।

विश्वासे
जिनगी रोॅ आधार छेकै,
हेकरै मेॅ सबसेॅ व्यापार होतै
तनियोॅ टा नै घात होतै
जिनगी सबके कामयाब होतै।