भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विसर्जन / श्याम किशोर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अभी-अभी बरस कर
रुका था बादल
कि फिर बरसने लगा ।
बरसते-बरसते फिर रुक गया बादल

फिर कई बार रुका
कई बार बरसा

आख़िरी बार तब तक बरसता रहा
जब तक कि
बूंद-बूंद
बिखर नहीं गया बादल ।