भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

विस्मृत मित्र के लिए कुछ पंक्तियाँ-2 / शुभा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब हम कगार पर होते हैं
बिल्कुल गिरने वाले निराश होने से
ऐन पहले
कैसे हम सिर उठा लेते हैं
दुबारा बुलडोज़र के नीचे से फिर
निकल आती है जिज्ञासा जीवित
फिर उठते हैं सवाल
दुखों में कोई कटौती किए बिना

हम पसीना पोंछ लेते हैं और आँसू
पीठ फेरकर कुछ याद करते हैं
क्या है जो हम भूल गए हैं
फिर भी साथ है।