भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वे सभ्य हैं / प्रेमशंकर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वे
सभ्य हैं
आदमी से
हाथ मिलाने के बाद
वे
हाथ धोते-माँजते हैं
और फिर
मुस्कराकर कहते हैं—
'हम एक हैं'
फिर हाथ धोते हैं
ताकि,
हाथ में आदमी की
'जाति' न छप गयी हो।