भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वो इस दफ़ा लौट कर आये और सफाई दे दे / कबीर शुक्ला

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो इक दफ़ा लौटकर आये और सफाई दे दे।
बेवफाई से कुछ बाकी हो तो वह रुसवाई दे दे।

मेरी सूजी पलकें तुमसे देखी ना जायेंगी साकी,
दो चार दिन के लिये मुझे मैक़दे से रिहाई दे दे।

शराब के आगे दवा हलक से उतरती ही नहीं,
शराब में ही मिलाकर तू मुझे कुछ दवाई दे दे।

आँखों में नींद नहीं शब करवट में गुजरती है,
ऐसा कर बोतल में छिपाकर मुझे जम्हाई दे दे।

मेरे ज़माने के लोग मुझे बेबस बेक़स कहते हैं,
कहीं से कर के मुझे किराये की ही लुगाई दे दे।