भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वो भी चुपचाप है इस बार, ये किस्सा क्या है / हस्तीमल 'हस्ती'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो भी चुपचाप है इस बार, ये किस्सा क्या है
तुम भी ख़ामोश हो सरकार, ये किस्सा क्या है

स़िर्फ ऩफरत ही थी मेरे लिए जिनके दिल में
हो गए वे भी तऱफदार, ये किस्सा क्या है

सामने कोई भँवर है न तलातुम फिर भी
छूटती जाए है पतवार, ये किस्सा क्या है

बैठते जब हैं खिलौने वे बनाने के लिए
उनसे बन जाते हैं हथियार, ये किस्साक्या है