भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

वो रिंद क्या के जो पीते हैं बे-ख़ुदी के लिए / 'बाकर' मेंहदी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

वो रिंद क्या के जो पीते हैं बे-ख़ुदी के लिए
सुरूर चाहिए वो भी कभी कभी के लिए

ये क्या के बज़्म में शमएँ जला के बैठे हो
कभी मिलो तो सर-ए-राह दुश्‍मनी के लिए

अवध की शाम-रफ़ीकों को मह-जबीनों को
हर इक छोड़ के आए थे बम्बई के लिए

मगर ये क्या के ब-जु़ज़ दर्द कुछ हमें न मिला
अजीब शहर है ये एक अजनबी के लिए

हज़ार चाहें न छूटेगी हम से ये दुनिया
यहीं रहेंगे मोहब्बत की बे-कसी के लिए

कोई पनाह नहीं कोई जा-ए-अमन नहीं
हयात जुहद-ए-मुसलसल है आदमी के लिए

ये कह रहा है कोई अपने जाँ-निसारों से
कुछ और चाहिए अब रस्म-ए-आशिक़ी के लिए

कहाँ कहाँ न पुकारा कहाँ कहाँ न गए
बस इक तबस्सुम-ए-पिहाँ की रौशनी के लिए