भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शक / इरेन्‍द्र बबुअवा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

किसी को मेरे प्यार पर शक है
शक है मेरी सच्चाई पर

किसी को मेरे मैं पर शक है
शक है
मेरी ख़ामोशी और अकेलेपन पर

किसी को मेरे भूत, वर्तमान, भविष्य पर शक है
शक है किसी को
काँपते हाथों से लिखी गई कविता पर

मैं खड़ा हूँ
कई एक शकों के घेरे में

मुझे इन घेरों पर शक है !