भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शत में इंजोरिया में फूल झरलोॅ गेलै आ, / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शत में इंजोरिया में फूल झरलोॅ गेलै आ,
रात भर दुःख दर्द भूमि बाँटनें गेलै।
रातभर घैरको के खेल खेललै कवि आ,
रातभर अंधड़ोॅ में खेल मेटलोॅ गेलै।
रातभर पलकोॅ पे याद बिरही केॅ रहै
रातभर एक लोक मिटलोॅ होलोॅ गेलै।
रातभर विधि के विधान भोगलोॅ गेलै आ
रातभर सर्द साँस काँपलोॅ होलोॅ गेलै॥