भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शरारत है, शिकायत है, नज़ाक़त है, क़यामत है / समीर परिमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शरारत है, शिकायत है, नज़ाक़त है, क़यामत है
ज़ुबां ख़ामोश है लेकिन निगाहों में मुहब्बत है

हवाओं में, फ़िज़ाओं में, बहारों में, नजारों में
वही खुशबू, वही जादू, वही रौनक़ सलामत है

हया भी है, अदाएँ भी, कज़ा भी है, दुआएँ भी
हरेक अंदाज़ कहता है, ये चाहत है, ये चाहत है

वो रहबर है, वही मंज़िल, वो दरिया है, वही साहिल
वो दर्दे-दिल, वही मरहम, ख़ुदा भी है, इबादत है

ज़माना गर कहे मुझको दीवाना, ग़म नहीं 'परिमल'
जो समझो तो शराफ़त है, न समझो तो बग़ावत है