भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

शहर : एक बिम्ब / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बडै शहरां रै
संकड़ै कमरां में
मिनखां कनै
     बैठा
       सूता
          ऊभा

मिनख
     मिनख
          मिनख

जाणै
दाब-दाब र भरी हुवै
जूनी अर अकारण फाइलां
               बोरां में !


कविता का हिंदी अनुवाद

बड़े शहर में
संकड़े कमरों में
आदमियों के पास
बैठे
सोए
खड़े
आदमी
आदमी
आदमी
जैसे ठूंस-ठूंस कर भरी हो-
पुरानी और बेकार फाइलें-
बोरों में !

अनुवाद : नीरज दइया