भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शाम / विजय वाते

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिन बीता चौपाया पंछी सी शाम
थकी थकी घर लौटी दफ्तर सी शाम

रोशन थी चंदा की लदकद से आँख
सारा दिन तरसी थी ममता की शाम

कद भर था साया काँधे थी धूप
कुछ कुछ वो हल्की थी कुछ भारी शाम

अलसाई सुबह थी उकताया दिन
दरवाज़ा तकती थी सूरज की शाम

धरती का साया झुलसाया इतराया
चम चम चम सूरज की टिमटिम सी शाम