भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शायरी खुद खिताब होती है / विजय वाते

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पीर जब बेहिसाब होती है
शायरी लाजवाब होती है

इक न इक दिन तो ऐसा आता है
शक्ल हर बेनकाब होती है

चांदनी जिसको हम समझते हैं
गर्मी-ए-आफ़ताब होती है

बे मज़ा हैं सभी क़ुतुब खाने
शायरी खुद किताब होती है

शायरी तो करम है मालिक का
शायरी खुद किताब होती है