भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिकायत किससे करें / रमेश तैलंग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

पापा का दफ़्तर हैदस बजे का
अपना सुबह का स्कूल
शिकायत किससे करें ?

कुहरे में जब कुछ
नज़र भी न आए
रिक्शावाला भैया
घंटी बजाए,
सारे बहाने फिजूल
शिकायत किससे करें ?

पापा भरें जब
खर्र-खर्र खर्राटे
मम्मी बनाए
उठ कर पराठें,
दुख-दर्द अपने सब भूल
शिकायत किससे करें ?