भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव आदिवासी / सुदर्शन वशिष्ठ

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शंकर भोला
नहीं तुम्हारे सिर मुकुट
न वैजयंती माल
न पीताम्बर नीलाम्बर
पहनी मृगछाल।

बने धूड़ू
धूल पहन नाचे
जटा खलार
धूड़ू नचेया जटा ओ खलारी हो..............।
बैल की सवारी
न छत्र न ढाल
न धनुष न बाण
न रथ न शान।

किया अपमानित प्रजापतियों ने
किया उपहास हर पहर
फिर तुम बने
शव से शिव
शिव तुम बनवासी
नहीं आई तुम में
नगर की चालाकी
रहे तुम आदिवासी।