भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिव जी हीरो बनोॅ हो-55 / अच्युतानन्द चौधरी 'लाल'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कन्या-निरीक्षण

समधी खाली जे तों अइल्हेॅ तोरा लाज नै लागल्हौं हे
डाला पर तों कुछ नै लानल्हेॅ खालिये हाथ अइल्हेॅ हे
बड़ी छबीली बड़ी रसीली तोरी बहिनियां हे
समधी बहिनी केॅ नै लानल्हेॅ खाली कैन्हें अइल्हेॅ हे
बड़ी नयनियां बड़ी गबैया हमरी समधिन हे
कैन्हेॅ समधिन केॅ नै लानल्हेॅ खाली कैन्हेॅ अइल्हेॅ हे।

सेहरा

कमाल करैछै हमरोॅ भैया के सेहरा
जुलुम करैछै प्यारी भौजी के चेहरा
भौजी के मुखड़ा जी भइया के सेहरा
कमाल करैछै भइया भौजी के चेहरा
गोरे गोरोॅ गालोॅ पर भौजी के तिलवा
जुलुम करैछै भौजी के आंखी कजरा
भइया केॅ सोहैछै मोरी वो पटुका
भौजी के कानोॅ में झूलैछै झुमका
भौजी छै चुलबुल जी बड्डी छै नखरा
दांतोॅ सें आपनोॅ दबाबैछै अंचरा
भैया के गल्ला में बेला के गजरा
गम गम गमकैछै दमकैछै सेहरा
मोती के लरिया सें सोहैछै सेहरा
चमा चम हीरा सें भइया के सेहरा
कहीं नै लगी जाय सखि भइया कॅ नजरा
कहीं नै लगी जाय सखि हमरी भोजी कॅ नजरा
गंगा जमुनमां के जब तक छै धारा
अबाद रहे भइया के भौजी के जोड़ा।।