भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शिशु गीत / श्रीनाथ सिंह

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सड़क के कायदे

सड़क बनी है लम्बी चौड़ी
उस पर जाये मोटर दौड़ी
सब लड़के पटरी पर जाओ
बीच सड़क पर कभी न आओ
आओगे तो दब जाओगे
चोट लगेगी पछताओगे

जाड़ा

जाड़ा आया जाड़ा आया
रंग बिरंगे कपड़े लाया
दिन हो गया सिकुड़ कर छोटा
गोभी फूल उठी ज्यों लोटा
पहन रजाई का पैजामा
चाय चाय चिल्लाते दादा