भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

शीश झुकाने को कहते हैं क्या कह दें / महेश कटारे सुगम

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शीश झुकाने को कहते हैं क्या कह दें ।
पैर दबाने को कहते हैं क्या कह दें ।।

फेंक रहे हैं जाल प्रलोभन का हम पर
आग लगाने को कहते हैं क्या कह दें ।

मर कर और मार कर बेबस लोगों को
धर्म बचाने को कहते हैं क्या कह दें ।

नकल खतौनी की माँगो तो बदले में
घूस चढ़ाने को कहते हैं क्या कह दें ।

अधिकारी का मन बहलाने को कमसिन
लेकर आने को कहते हैं क्या कह दें ।

झूठी नहीं गवाही दी दारोगा जी
सबक़ सिखाने को कहते हैं क्या कह दें ।

बाहुबली आतंक मचाते फिरते हैं
हुक़्म बजाने को कहते हैं क्या कह दें ।

26-02-2015